रजगुण,तमगुण,सतगुण का जीव पर प्रभाव-www.santrampaljiamaharaj.com


             रजगुण,तमगुण,सतगुण क्या है ?
BRAHMA-VISHNU-MAHESH-RAJGUN-TAMGUN-SATGUN-IMG-IMAGE-PIC-PICTURE-PHOTO-WALLPEPAR-HD-


यह तीनो देवताओ के गुण है -रजगुण ब्रह्मा जी ,तमगुण शिव जी ,सतगुण विष्णु जी का है,तीनो देव ब्रह्म [काल] तथा प्रकृति [दुर्गा] से उत्पन्न हुए है  तथा तीनो नाशवान है। '
 गीता अध्याय 7   श्लोक 12 ;गीता ज्ञान दाता 'ब्रह्म /काल' कह रहा है की तीनो गुण से जो कुछ भी हो रहा है वह मुझसे ही हुआ जान। रजगुण ब्रह्मा से उत्पत्ति ,सतगुण विष्णु से पालन-पोषण स्थिति तथा तमोगुण शिव से प्रलय संहार का कारण =काल भगवन ही है। फिर कहा है कि में इन में नहीं हूं। क्योकि काल बहुत दूर [इक्कीसवे ब्रह्माण्ड में निज लोक में रहता है]परन्तु मन रूप मे मोज़[काल /ब्रह्म]ही मनाता है तथा इशारो[रिमोट] से सर्व प्राणियों, तथा ब्रह्मा जी,श्री विष्णु जी ,व शिव जी को यंत्र की तरह चलता है। में [काल] केवल  इक्कीस ब्रह्माण्ड का  में ही मालिक हूँ। इसलिए[ गीता अ.7 श्लोक 12 से 15 तक]जो भी तीनो गुण से[जीवो की उत्पत्ति,पालन -पोषण ,संहार ]जो कुछ भी हो रहा है उसका मुख्य कारण में ही हूँ।> www.santrampaljimaharaj.com
Share on Google Plus

About GORAV SHARMA

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment

Labels

Comments System

Disqus Shortname

Technology

Sports

Sponsor

Home -BHGTIPosts (show/hide)

Home - PageNavi (show/hide)

Internal - PostNavi (show/hide)

Disqus Shortname

There was an error in this gadget
There was an error in this gadget

Find Us On Facebook

Popular Posts